Sale!

Behte Jazbaat

179

Author: Anoop Basar
“बहते जज़्बात” बहते जज़्बात लेखक/कवि द्वारा लिखा गया पहला काव्य संग्रह है। जिसके अन्तर्गत प्रेम से परिपूर्ण कविताएं संग्रहित हैं। लेखक/कवि ने पुरूष और स्त्री दोनों के जज़्बातों को विभिन्न कविताओं में पिरोने की कोशिश की है। कहीं-कहीं प्रेम में वियोग भी दर्शाया गया है।

Purchase this book and get 35 Points -  worth 35

Description

About Book:
“बहते जज़्बात” बहते जज़्बात लेखक/कवि द्वारा लिखा गया पहला काव्य संग्रह है। जिसके अन्तर्गत प्रेम से परिपूर्ण कविताएं संग्रहित हैं। लेखक/कवि ने पुरूष और स्त्री दोनों के जज़्बातों को विभिन्न कविताओं में पिरोने की कोशिश की है। कहीं-कहीं प्रेम में वियोग भी दर्शाया गया है।

About Author:
अनूप बसर जिनका मूल नाम अनूप वर्मा है। लेखन के क्षेत्र में इन्होंने अपने उपनाम वर्मा की जगह बसर कर लिया है। अब इनको जानने वाले लोग अनूप बसर के नाम से ज्यादा जानते हैं। इनका जन्म एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ है। अपने घर में छः भाई- बहनों ( तीन बहन व तीन भाई) में ये सबसे छोटे हैं। जो बचपन से ही कुछ अलग करना चाहते थे। उसी दिशा में इनका बालमन कविता व कहानियों को पढ़ने में दिलचस्पी लेने लगा। और तभी से ये पढ़ाई के साथ-साथ हिंदी को अधिक तवज्जो देने लगे। इनकी खेल जगत में भी बचपन से रुचि थी। जो अभी तक बरकरार है। इसलिए इन्होंने स्नातक से अपना क्षेत्र बदल लिया। और खेल के साथ-साथ खेल की पढाई में लग गए। जिसका फल इनको मिला भी। पेशे से ये एक सरकारी स्कूल(उ०प्रा०वि०-जुलैपुरा, बुलन्दशहर) में खेल शिक्षक(अनुदेशक) के पद पर पिछले सात वर्षों से कार्यरत हैं। और आगे की पढ़ाई व पेपर देते रहते हैं। अब तक इनकी विभिन्न रचनाएं, संयुक्त काव्य संग्रहों, पत्रिकाओं व विभिन्न देश -विदेश के अखबारों में निरंतर प्रकाशित होती रहती हैं। ये यूट्यूब चैनलों पर भी लाइव परफॉर्मेंस देते रहते हैं। लेखक/कवि प्रकृति प्रेमी ,सामाजिक, ऐतिहासिक, काल्पनिक, बाल-मनोवैज्ञानिक, प्रेम, देशभक्ति और श्रृंगार आदि विषयों में रुचि रखता है और इसी के अंतर्गत वह अपनी अगली किताब पर कार्य कर रहा है। Facebook- https:// www.facebook.com/anoopbasar Instagram- @anoop_basar | Twitter- @anoopbasar YourQuote- anoopbasar | E-mail- anoopindian20@gmail.com

Product Details

ISBN: 978-9390447060
Size: 5×8
Format: Paperback
Pages: 97
Language: Hindi
Genre: Fiction | Poetry
Mrp: Rs.180/-

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Behte Jazbaat”

Your email address will not be published.