Sale!

Sarang

189

Author: Aditya Alfaaz

~

‘आदित्य अल्फ़ाज़’ सिर्फ एक नाम नहीं, ये बयां करता है नाम के साथ जुड़े सारे मेरे  जज़्बातों, और मेरे अधूरे प्रेम की निशानी को। जब मैंने लिखने का सफ़र शुरू किया तब मैंने सोचा नहीं था कि एक दिन लिखना ही मेरा सबसे प्यारा एहसास बन जाएगा और इस तरीके से मैं व्यक्त करूंगा अपने सारे एहसास और प्रेम को। साथ ही साथ मुझे पसंद है कवि सम्मेलनों में लोगों के बीच अपने ख्यालों को बांटना और ये बताना कि कितना खास होता है किसी का साथ जीवन में ।

Purchase this book and get 18 Points -  worth 9

Description

सारंग का अर्थ: मरते दम तक किसी के साथ होने की चाह।

इस किताब के ज़रिए मैंने अपने उन सारे जज़्बातों और एहसासों को बयां करने की कोशिश की है जो मरते दम तक मेंरा और मेंरी ज़िंदगी का हिस्सा बनने वाले हैं ।

मैं हर पल एक-एक लिखे शब्द को महसूस करता और उन्हें जीता हूँ। वो सारे जज़्बात जिनकी आज भी मैं बेहद कदर करता हूँ। उन्होंने ही मुझे निखारा है।

मरते दम तक किसी के साथ रहने की चाह ही मुझे ज़िंदा रहने की हिम्मत देती है, जब मैं सोचता हूँ अपने बीते हुए पल तो एहसास होता है कि कितना कुछ मैं पीछे छोड़ कर आ चुका हूँ और कितना कुछ मैं हासिल कर चुका हूँ, और कितना कुछ सीख कर मैं अपने आदर्शों पर चल रहा हूँ।

इस किताब में आपको पता चलेगा कि किस तरह मैं अपने जज़्बातों को लेकर चलता आ रहा हूँ, उन्हें अपने अंदर पाल रहा हूँ, और किस तरह से किसी को चाहा जाता है, किस तरह से उस एहसास तक पहुंचा जा सकता है।  जो कहता है की मैं तुम्हारे साथ मरते दम तक रहना चाहता हूँ, मरते दम तक तुमको को चाहना चाहता हूँ।

Join Me On:

Instagram:  @aditya.alfaaz

FaceBook: @aditya.aalfaaz

YouTube:    Aditya Alfaaz

Additional information

Weight 0.20 kg

1 review for Sarang

  1. Degree wala

    Wonderful, a book you must read!!!!

Add a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *